Tareef Shayari | Romantic Shayari On Beauty For Love and Friends

Tareef shayari in Hindi for friends and love

Tareef Shayari: If you want to get the best Tareef Shayari and share it with your friends then We are providing Latest Collection of Shayari like Best Tareef Shayari for Love, Heart Touching Tareef Shayari, Broken Heart Shayari on Beauty. I hope you liked this English & Hindi Tareef Shayari collection. You will get all the Latest and updated collection of Tareef Shayari in Hindi. Also Check our updated Love Shayari and Zindagi Shayari.

Tareef Shayari in Hindi for Love and Friends

  • Tujhe Dil Mein Basane Ko Ji Chahta Hai
    Teri Bahon Mein Simatne Ko Jee Chahta Hai,
    Khoobasurati Ki Moorat Hai Tu,
    Tujhe Zindagi Me Lane Ko Jee Chahta Hai.

 

  • तुझे दिल में बसाने को जी चहता है
    तेरी बाहों में सिमटने को जी चाहता है,
    खूबसूरती की मूरत है तू,
    तुझे ज़िन्दगी में लाने को जी चाहता है।

 

  • Husn Aur Khushbu Ka Sabab Ho Tum,
    Aisa Khilta Hua Gulaab Ho Tum,
    Tum Jaisa Haseen Na Hoga Is Jahan Mein,
    Tamam Haseeno Mein Lajavaab Ho Tum.

 

  • हुस्न और खुशबु का सबब हो तुम,
    ऐसा खिलता हुआ गुलाब हो तुम,
    तुम जैसा हसीन न होगा इस जहाँ में,
    तमाम हसीनों में लाजवाब हो तुम।

Latest Tareef Shayari

  • Jarurat Nahin Tum Meri Chahat Ho,
    Mile Jo Khwabo Mein Haan Vahi Daulat Ho,
    Kis Liye Dekhti Ho Aaina,
    Tum To Rab Se Bhi Jyada Khoobsurat Ho.

 

  • जरुरत नहीं तुम मेरी चाहत हो,
    मिले जो ख्वाबो में हां वही दौलत हो
    किस लिए देखती हो आईना,
    तुम तो रब से भी ज्यादा खूबसूरत हो।

 

  • Hata Ke Zulf Chahare Se,
    Na Tum Chhat Par Sham Ko Jaana,
    Kahin Kotyi Eid Na Karle Sanam,
    Abhi Ramzaan Baaki Hai.

 

  • हटा के ज़ुल्फ़ चहरे से,
    न तुम छत पर शाम को जाना,
    कहीं कोई ईद ना करले सनम,
    अभी रमज़ान बांकी है।

 

  • Ye Teri Khoobasurati Hai Ya
    Meri Deewanagi Ai Sanam,
    Muddaton Se Dekh Raha Hun
    Phir Bhi Ye Aankhein Thakti Nahin.

 

  • ये तेरी ख़ूबसूरती है या
    मेरी दीवानगी ऐ सनम,
    मुद्दतों से देख रहा हूँ
    फिर भी ये आँखें थकती नहीं।

 

  • Wo Teri Masoomiyat Thi Ya
    Tere Husn Ki Sharaarat,
    Pahli Dafa Aisa Huaa…
    Ki Dil Aur Nazar Ik Saath Mile.

 

  • वो तेरी मासूमियत थी या
    तेरे हुस्न की शरारत,
    पहली दफ़ा ऐसा हुआ…
    कि दिल और नज़र इक साथ मिले।

 

  • Tu Apni Nigahon Se Na Dekh Khud Ko,
    Chamakta Heera Bhi Tujhe Patthar Lagega,
    Sab Kahate Hain Chaand Ka Tukada Hai Tu,
    Meri Najar Se Chaand Tera Tukda Lagega.

 

  • तू अपनी निगाहों से न देख खुद को,
    चमकता हीरा भी तुझे पत्थर लगेगा,
    सब कहते हैं चाँद का टुकड़ा है तू,
    मेरी नजर से चाँद तेरा टुकड़ा लगेगा।

 

  • Mere Hamdam Tumhen Badi Fursat Me Banaya Hai,
    Julfen Ye Tumhari Badal Ki Yaad Dila Den,
    Nazar Bhar Dekh Lo Jo Kisi Ko,
    Nek Dil Insaan Ki Bhi Niyat Bigad Jaye.

 

  • मेरे हमदम तुम्हें बड़ी फुर्सत में बनाया है,
    जुल्फें ये तुम्हारी बादल की याद दिला दें,
    नज़र भर देख लो जो किसी को,
    नेक दिल इंसान की भी नियत बिगड़ जाए।

 

  • Kya Likhoon Teri Tareef-E-Soorat Mein Yaar,
    Alfaaz Kam Pad Rahe Hain Teri Masoomiyat Dekhkar.

 

  • क्या लिखूं तेरी तारीफ-ए-सूरत में यार,
    अलफ़ाज़ कम पड़ रहे हैं तेरी मासूमियत देखकर।

 

  • Aaj Uski Masoomiyat Ke Kayal Ho Gaye,
    Sirf Uski Ek Najar Se Hi Ghayal Ho Gaye.

 

  • आज उसकी मासूमियत के कायल हो गए,
    सिर्फ उसकी एक नजर से ही घायल हो गए।

 

  • Meri Masoomiyat Mujhse Chura Gaya,
    Koi Is Tarah Mohabbat Mujhse Nibha Gaya.

 

  • मेरी मासूमियत मुझसे चुरा गया,
    कोई इस तरह मोहब्बत मुझसे निभा गया।

 

  • Na Jane Kya Masoomiyat Hai Tere Chehre Par…
    Tere Samne Aane Se Zyada Tujhe Chhupkar Dekhna Achha Lagta Hai.

 

  • न जाने क्या मासूमियत है तेरे चेहरे पर…
    तेरे सामने आने से ज़्यादा तुझे छुपकर देखना अच्छा लगता है।

 

  • Dam Tod Jati Hai Har Shikayat Labon Pe Aakar,
    Jab Masoomiyat Se Wo Kahti Hai Maine Kiya Hi Kya Hai ?

 

  • दम तोड़ जाती है हर शिकायत लबों पे आकर,
    जब मासूमियत से वो कहती है मैंने किया ही क्या है ?

 

  • Likh Doon Kitaben Teri Masoomiyat Par Phir Dar Lagta Hai,
    Kahin Har Shakhs Tera Talabgaar Na Ho Jaye.

 

  • लिख दूं किताबें तेरी मासूमियत पर फिर डर लगता है,
    कहीं हर शख्स तेरा तलबगार ना हो जाये।

 

  • Rukh Se Parda Hata To, Husn Benaqab Ho Gaya,
    Unse Mili Nazar To, Dil Bekarar Ho Gaya.

 

  • रुख से पर्दा हटा तो, हुस्न बेनकाब हो गया,
    उनसे मिली नज़र तो, दिल बेकरार हो गया।

 

  • Wo Mujhse Roz Kahti Thi Mujhe Tum Chand La Kar Do,
    Use Ek Aaina De Kar Akela Chhod Aaya Hoon.

 

  • वो मुझसे रोज़ कहती थी मुझे तुम चाँद ला कर दो,
    उसे एक आईना दे कर अकेला छोड़ आया हूँ।

 

  • Teri Soorat Dekhkar Hazaron Ne Dil Hare Hain,
    Kaun Kahta Hai Tasveeren Jua Nahin Khelti.

 

  • तेरी सूरत देखकर हजारों ने दिल हारे हैं,
    कौन कहता है तस्वीरें जुआ नहीं खेलती।

 

  • Barsaat Ka Baadal To Deewana Hai Kya Jaane,
    Kis Raah Se Bachna Hai Kis Chhat Ko Bhigona Hai.

 

  • बरसात का बादल तो दीवाना है क्या जाने,
    किस राह से बचना है किस छत को भिगोना है।

 

  • Jo Nigaah-E-Naaz Ka Bismil Nahin Hai,
    Wo Dil Nahin Hai, Dil Nahin Hai, Dil Nahin Hai.

 

  • जो निगाह-ए-नाज़ का बिस्मिल नहीं है,
    वो दिल नहीं है, दिल नहीं है, दिल नहीं है।

 

  • Uff Ye Nazakat Ye Shokhiyaan Ye Takalluf,
    Kahin Tu Urdoo Ka Koi Haseen Lafz To Nahin.

 

  • उफ्फ ये नज़ाकत ये शोखियाँ ये तकल्लुफ़,
    कहीं तू उर्दू का कोई हसीन लफ्ज़ तो नहीं।

 

  • Is Sadgi Pe Kaun Na Mar Jaye Ai Khuda,
    Ladte Hain Aur Haath Mein Talvar Bhi Nahin.

 

  • इस सादगी पे कौन न मर जाए ऐ ख़ुदा
    लड़ते हैं और हाथ में तलवार भी नहीं।

 

  • Tere Vajood Se Hain Meri Muqammal Kahani,
    Main Khokhli Seep Aur Tu Moti Roohani.

 

  • तेरे वजूद से हैं मेरी मुक़म्मल कहानी,
    मैं खोखली सीप और तू मोती रूहानी।

 

  • Har Baar Ham Par Iljaam Laga Dete Ho Muhabbat Ka,
    Kabhi Khud Se Bhi Poonchha Hai Itni Khoobasoorat Kyon Ho.

 

  • हर बार हम पर इल्जाम लगा देते हो मुहब्बत का,
    कभी खुद से भी पूंछा है इतनी खूबसूरत क्यों हो।

 

  • Qayamat Toot Padti Hai Zara Se Honth Hilane Par,
    Na Jaane Hashr Kya Hoga Agar Wo Muskuraaye To.

 

  • क़यामत टूट पड़ती है ज़रा से होंठ हिलने पर,
    ना जाने हश्र क्या होगा अगर वो मुस्कुराये तो।

 

  • Khoob Parda Hai Ki Chilman Se Lage Baithe Hain,
    Saaf Chhupte Bhi Nahin Samne Aate Bhi Nahin.

 

  • ख़ूब पर्दा है कि चिलमन से लगे बैठे हैं…
    साफ़ छुपते भी नहीं सामने आते भी नहीं।

 

  • Tujhe Palkon Par Bithane Ko Jee Chahta Hai,
    Teri Bahon Se Lipatne Ko Jee Chahta Hai,
    Khoobsoorati Ki Inteha Hai Tu…
    Tujhe Zindagi Mein Basane Ko Jee Chahta Hai.

 

  • तुझे पलकों पर बिठाने को जी चाहता है,
    तेरी बाहों से लिपटने को जी चाहता है,
    खूबसूरती की इंतेहा है तू…
    तुझे ज़िन्दगी में बसाने को जी चाहता है।

 

  • Jara Utar Ke Dekh Mere Dil Ki Gahraiyon Mein,
    Ki Tujhe Bhi Mere Jazbaat Ka Pata Chale,
    Dil Karta Hai Chaand Ko Khada Kar Doon Tere Aage,
    Jara Use Bhi To Apni Aukaat Ka Pata Chale.

 

  • जरा उतर के देख मेरे दिल की गहराइयों में,
    कि तुझे भी मेरे जज़्बात का पता चले,
    दिल करता है चाँद को खड़ा कर दूं तेरे आगे,
    जरा उसे भी तो अपनी औकात का पता चले।

 

  • Kitna Khoobsoorat Chehra Hai Tumhara,
    Ye Dil To Bas Deewana Hai Tumhara,
    Log Kahte Hai Chaand Ka Tukada Tumhen,
    Par Main Kahta Hoon Chaand Bhi Tukada Hai Tumhara.

 

  • कितना खूबसूरत चेहरा है तुम्हारा,
    ये दिल तो बस दीवाना है तुम्हारा,
    लोग कहते है चाँद का टुकड़ा तुम्हें,
    पर मैं कहता हूँ चाँद भी टुकड़ा है तुम्हारा।

 

  • Kashish Ho Shayari Ki Tum, Gazal Ki Jaan Lagti Ho,
    Khuda Ke Noor Jaisi Ho, Nazar Ki Shaan Lagti Ho,
    Tamanna Ho Meri Hasrat, Tumhin Jazbaat Ho Mere,
    Rab Ne Jo Kiya Mujh Par, Vahi Ehasaan Lagti Ho.

 

  • कशिश हो शायरी की तुम, ग़ज़ल की जान लगती हो,
    खुदा के नूर जैसी हो, नज़र की शान लगती हो,
    तमन्ना हो मेरी हसरत, तुम्हीं जज़्बात हो मेरे,
    रब ने जो किया मुझ पर, वही एहसान लगती हो।

 

  • Girata Jata Hai Chahre Se Nakab Aahista-Aahista,
    Nikalta Aa Raha Hai Aafatab Aahista-Aahista.

 

  • गिरता जाता है चहरे से नकाब अहिस्ता-अहिस्ता,
    निकलता आ रहा है आफ़ताब अहिस्ता-अहिस्ता।

 

  • Ham Par Yun Bar Bar Ishq Ka Iljaam Na Lagaya Kar,
    Kabhi Khud Se Bhi Poonchha Hai Itni Khoobasurat Kyu Ho.

 

  • हम पर यूँ बार बार इश्क का इल्जाम न लगाया कर,
    कभी खुद से भी पूंछा है इतनी खूबसूरत क्यों हो

Best Tareef Shayari in Hindi

  • Mausam Bhi Khushamijaaj Hai, Kuchh Mera Andaz Hai,
    Taareef Karoon Ya Chup Rahun Gunah Dono Hi Sangeen Hain.

 

  • मौसम भी खुशमिजाज है, कुछ मेरा अंदाज़ है,
    तारीफ करूँ या चुप रहूँ गुनाह दोनो ही संगीन हैं

 

  • Bayan Kaise Kare Uski Sadagi Ko Ham,
    Pardanashi The Hami Se Aur Nigahen Bhi Hami Par Thi.

 

  • बयां कैसे करे उसकी सादगी को हम,
    पर्दानशीं थे हमी से और निगाहें भी हमीं पर थीं

 

  • Bhata Nahin Hai Koi Aur Ab Tere Siva Mujhe,
    Tujhe Chahna Aur Dekhte Rahna Jaruri Ho Gaya Hai.

 

  • भाता नहीं है कोई और अब तेरे सिवा मुझे,
    तुझे चाहना और देखते रहना जरुरी हो गया है।

Shayari on Beauty

  • Khoobasurat Lage To Hamne Bata Diya,
    Gurur Aa Gaya Tum Mein Nukasan Ye Hua.

 

  • खूबसूरत लगे तो हमने बता दिया,
    गुरुर आ गया तुम में नुकसान ये हुआ।

 

  • Kahate Hain Ki Ham Unaki Jhoothi Hi Taarif Karte Hain,
    Ai Khuda Itna Karam Kar De –
    Bas Ek Din Ke Liye Aaine Ko Jubaan De De.

 

  • कहते हैं कि हम उनकी झूठी ही तारीफ करते हैं,
    ऐ खुदा इतना करम कर दे –
    बस एक दिन के लिए आईने को जुबान दे दे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *