Sharab Shayari | Best Sharab Shayari In Hindi for Friends | Drinking Shayari

Sharab shayari In Hindi for friends and sharabi

Sharab Shayari: If you want to get the best Sharab Shayari and share it with your friends then We are providing Latest Collection of Shayari like best Sharab Shayari, Heart Touching Sharab Shayari, Sharab Shayari for sharabi, Drinking Shayari In Hindi. I hope you liked this English & Hindi Sharab Shayari collection. You will get all the Latest and updated collection of Sharab Shayari in Hindi. Also Check our updated Dil Shayari and Friendship Shayari.

Sharab Shayari in Hindi for Friends and Sharabi

  • Wo Bhi Din The Jab Hum Bhi Piya Karte The,
    Yun Na Karo Humse Peene Pilane Ki Baat,
    Jitni Tumhare Jaam Mein Hai Sharab,
    Utni Hum Paimane Mein Chod Diya Karte The.

 

  • वो भी दिन थे जब हम भी पिया करते थे,
    यूँ न करो हमसे पीने पिलाने की बात,
    जितनी तुम्हारे जाम में है शराब,
    उतनी हम पैमाने में छोड़ दिया करते थे।

 

  • Nasha Zaroori Hai Zindagi Ke Liye,
    Par Sirf Sharab Hi Nahi Hai Bekhudi Ke Liye,
    Kisi Kee Mast Nigahon Mein Doob Jao,
    Bada Haseen Samandar Hai Khudkhushi Ke Liye.

 

  • नशा ज़रूरी है ज़िन्दगी के लिए,
    पर सिर्फ शराब ही नहीं है बेखुदी के लिए,
    किसी की मस्त निगाहों में डूब जाओ,
    बड़ा हसीं समंदर है खुदखुशी के लिए।

 

  • Nasha Ham Kiya Karte Hain
    Ilzaam Sharab Ko Diya Karte Hain,
    Kasoor Sharab Ka Nahin Unka Hai
    Jiska Chehra Ham Jaam Mein Talash Kiya Karte Hain.

 

  • नशा हम किया करते हैं
    इल्ज़ाम शराब को दिया करते हैं,
    कसूर शराब का नहीं उनका है
    जिसका चेहरा हम जाम में तलाश किया करते हैं।

 

  • Gham Is Kadar Mila Ki Ghabra Ke Pee Gaye,
    Khushi Thodi Si Mili To Mila Ke Pee Gaye,
    Yun To Naa Thi Janam Se Peene Ki Aadat,
    Sharab Ko Tanha Dekha To Taras Kha Ke Pee Gaye.

 

  • ग़म इस कदर मिला कि घबरा के पी गए,
    ख़ुशी थोड़ी सी मिली तो मिला के पी गए,
    यूँ तो ना थी जनम से पीने की आदत,
    शराब को तनहा देखा तो तरस खा के पी गए।

 

  • Nasha Mohabbat Ka Ho Ya Sharab Ka,
    Hosh Dono Mein Kho Jate Hain,
    Fark Sirf Itna Hai Ki Sharab Sula Deti Hai,
    Aur Mohabbat Rula Deti Hai.

 

  • नशा मोहब्बत का हो या शराब का,
    होश दोनों में खो जाते हैं,
    फर्क सिर्फ इतना है की शराब सुला देती है,
    और मोहब्बत रुला देती है।

 

  • Meri Kabar Pe Mat Gulab Le Kar Aana,
    Na Hi Haathon Mein Chiraag Le Kar Aana,
    Pyasa Hu Main Barso Se Sanam,
    Botal Sharab Ki Aur Ek Glass Le Kar Aana.

 

  • मेरी कबर पे मत गुलाब ले कर आना,
    न ही हाथों में चिराग ले कर आना,
    प्यासा हूँ मैं बरसो से सनम,
    बोतल शराब की और एक गिलास ले कर आना।

 

  • Ek Sharab Ki Botal Daboch Rakhi Hai,
    Tujhe Bhulane Ki Tarakeeb Soch Rakh Hai.

 

  • एक शराब की बोतल दबोच रखी है,
    तुझे भुलाने की तरकीब सोच रखी है।

 

  • Ham To Badnaam Huye Kuchh Is Kadar Dosto,
    Ki Paani Bhi Piyen To Log Sharab Kahate Hain.

 

  • हम तो बदनाम हुए कुछ इस कदर दोस्तों,
    की पानी भी पियें तो लोग शराब कहते हैं।

 

  • Tum Aas Paas Na Aaya Karo Jab Main Sharab Peeta Hoon,
    Kya Hai Ki Mujhse Dugna Nasha Sabhala Nahin Jaata.

 

  • तुम आस पास ना आया करो जब मैं शराब पीता हूँ,
    क्या है कि मुझसे दुगना नशा सभांला नहीं जाता।

 

  • Peeta Hun Jitni Utni Hi Badhti Hai Tishnagi,
    Saqi Ne Jaise Pyaas Mila Di Sharab Mein.

 

  • पीता हूँ जितनी उतनी ही बढ़ती है तिश्नगी,
    साक़ी ने जैसे प्यास मिला दी शराब में।

 

  • Shikan Na Daal Jabin Par Sharab Dete Hue,
    Ye Muskurati Hui Cheez Muskura Ke Pila.

 

  • शिकन न दाल जबीन पर शराब देते हुए,
    ये मुस्कुराती हुई चीज़ मुस्कुरा के पीला।

 

  • Rehta Hu Maikhane Mein To Sharabi Na Samajh Mujhe,
    Har Wo Shakhs Jo Masjid Se Nikle Namazi Nahi Hota.

 

  • रहता हूँ मैखाने में तो शराबी न समझ मुझे,
    हर वो शख्स जो मस्जिद से निकले नमाज़ी नहीं होता।

 

  • Bahut Ameer Hoti Hai Ye Sharab Ki Botlen,
    Paisa Chahe Jo Bhi Lag Jaye Sare Gam Khareed Leti Hain.

 

  • बहुत अमीर होती है ये शराब की बोतलें,
    पैसा चाहे जो भी लग जाए सारे ग़म ख़रीद लेतीं हैं।

 

  • Mujhe Aisi Sharab Bata Ai Dost,
    Nasha-E-Ishq Utaar Paun Main.

 

  • मुझे ऐसी शराब बता ऐ दोस्त,
    नशा-ए-इश्क उतार पाऊ मै।

 

  • Na Jakhm Bhare, Na Sharab Sahara Hui,
    Na Wo Bapas Lauti Na Mohabbat Dobara Hui.

 

  • न जख्म भरे, न शराब सहारा हुई
    न वो वापस लौटी न मोहब्बत दोबारा हुई।

 

  • Mayakhane Se Poochha Aaj Itna Sannata Kyu Hai,
    Bola, Saahab Lahoo Ka Daur Hai Sharab Kaun Peeta Hai.

 

  • मयखाने से पूछा आज इतना सन्नाटा क्यों है,
    बोला, साहब लहू का दौर है शराब कौन पीता है।

 

  • Zaahid Sharab Peene De Masjid Me Baith Kar,
    Ya Wo Jagah Bata De Jahaan Par Khuda Na Ho.

 

  • ज़ाहिद शराब पीने दे मस्जिद में बैठ कर,
    या वो जगह बता दे जहाँ पर ख़ुदा न हो।

 

  • Ab To Utani Bhi Baaki Nahin May-Khaane Mein,
    Jitni Ham Chhod Diya Karte The Paimaane Mein.

 

  • अब तो उतनी भी बाकी नहीं मय-ख़ाने में,
    जितनी हम छोड़ दिया करते थे पैमाने में।

 

  • Kuchh Bhi Bacha Na Kahne Ko Har Baat Ho Gayi,
    Aao Kahin Sharaab Peeyen Raat Ho Gayi.

 

  • कुछ भी बचा न कहने को हर बात हो गई,
    आओ कहीं शराब पिएँ रात हो गई।

 

  • Pila De Ok Se Saaqi Jo Ham Se Nafarat Hai,
    Piyaala Gar Nahin Deta Na De Sharab To De.

 

  • पिला दे ओक से साक़ी जो हम से नफ़रत है,
    पियाला गर नहीं देता न दे शराब तो दे।

 

  • Shikan Na Daal Maathe Par Sharab Dete Huye,
    Ye Muskuraati Huyi Cheez Muskura Ke Pila.

 

  • शिकन न डाल माथे पर शराब देते हुए,
    ये मुस्कुराती हुई चीज़ मुस्कुरा के पिला।

Leave a Reply

Your email address will not be published.