Nafrat Shayari | Attitude Nafrat Shayari In Hindi For Friends & Love

Nafrat Shayari In Hindi for Friends

Nafrat Shayari: If you want to get the best Nafrat Shayari and share it with your friends then We are providing Latest Collection of Shayari like best Love Nafrat Shayari, Heart Touching Nafrat Shayari, Attitude Nafrat Shayari. I hope you liked this English & Hindi Nafrat Shayari collection. You will get all the Latest and updated collection of Nafrat Shayari in Hindi. Also Check our updated Love Shayari and Motivational Shayari.

Nafrat Shayari In Hindi for Love and Friends

  • Na Mohabbat Sambhali Gayi, Na Nafraten Paali Gayi,
    Afsos Hai Us Jindagi Ka, Jo Tere Peechhe Khali Gayi.

 

  • न मोहब्बत संभाली गई, न नफरतें पाली गईं,
    अफसोस है उस जिंदगी का, जो तेरे पीछे खाली गई।

 

  • Mohabbat Karne Se Fursat Nahin Mili Yaaro,
    Varna Ham Karke Batate Nafrat Kisko Kahte Hain.

 

  • मोहब्बत करने से फुरसत नहीं मिली यारो,
    वरना हम करके बताते नफरत किसको कहते है।

 

  • Ehsaas Badal Jaate Hain Bas Aur Kuchh Nahin,
    Varna Nafrat Aur Mohabbat Ek Hi Dil Mein Hoti Hai.

 

  • एहसास बदल जाते हैं बस और कुछ नहीं,
    वरना नफरत और मोहब्बत एक ही दिल में होती है।

 

  • Kuchh Juda Sa Hai Mere Mahaboob Ka Andaaz,
    Najar Bhi Mujh Par Hai Aur Nafrat Bhi Mujhse Hi.

 

  • कुछ जुदा सा है मेरे महबूब का अंदाज,
    नजर भी मुझ पर है और नफरत भी मुझसे ही।

 

  • Wo Nafraten Paale Rahe Ham Pyar Nibhate Rahe,
    Lo Ye Zindagi Bhi Kat Gayi Khali Haath Si.

 

  • वो नफरतें पाले रहे हम प्यार निभाते रहे,
    लो ये जिंदगी भी कट गयी खाली हाथ सी।

 

  • Phir Yoon Hua Ke Gair Ko Dil Se Laga Liya,
    Andar Wo Nafaraten Thi Ke Baahar Ke Ho Gaye.

 

  • फिर यूँ हुआ के गैर को दिल से लगा लिया,
    अंदर वो नफरतें थी के बाहर के हो गये।

 

  • Ye Mat Kahna Ki Teri Yaad Se Rishta Nahin Rakha,
    Main Khud Tanha Raha Par Dil Ko Tanha Nahin Rakha,
    Tumhari Chahaton Ke Phool To Mahafooj Rakhe Hain,
    Tumhari Nafaraton Ki Peed Ko Jinda Nahin Rakha.

 

  • ये मत कहना कि तेरी याद से रिश्ता नहीं रखा,
    मैं खुद तन्हा रहा पर दिल को तन्हा नहीं रखा,
    तुम्हारी चाहतों के फूल तो महफूज रखे हैं,
    तुम्हारी नफरतों की पीड़ को जिंदा नहीं रखा।

 

  • Ek Nafarat Hi Hai Jise,
    Duniya Chand Lamhon Mein Jaan Leti Hai, Varana..
    Chaahat Ka Yakeen Dilaane Mein To
    Zindagi Beet Jaati Hai.

 

  • एक नफरत ही है जिसे,
    दुनिया चंद लम्हों में जान लेती है, वरना..
    चाहत का यकीन दिलाने में तो
    ज़िन्दगी बीत जाती है।

 

  • Chala Jaoonga Main Dhundh Ke Baadal Ki Tarah,
    Dekhte Rah Jaoge Mujhe Pagal Ki Tarah,
    Jab Karte Ho Mujhse Itani Nafrat To Kyon,
    Sajate Ho Aankho Mein Mujhe Kaajal Ki Tarah.

 

  • चला जाऊँगा मैं धुंध के बादल की तरह,
    देखते रह जाओगे मुझे पागल की तरह,
    जब करते हो मुझसे इतनी नफरत तो क्यों,
    सजाते हो आँखो में मुझे काजल की तरह।

 

  • Mat Rakh Itni Nafraten Apne Dil Mein-e-Insaan,
    Jis Dil Mein Nafrat Hoti Hai Us Dil Mein Rab Nahi Basta.

 

  • मत रख इतनी नफ़रतें अपने दिल में ए इंसान,
    जिस दिल में नफरत होती है उस दिल में रब नहीं बसता।

 

  • Lekar Ke Mera Naam Mujhe Kosta To Hai,
    Nafrat Hi Sahi, Par Vah Mujhe Sochta To Hai.

 

  • लेकर के मेरा नाम मुझे कोसता तो है,
    नफरत ही सही, पर वह मुझे सोचता तो है।

 

  • Wo Waqt Gujar Gaya Jab Mujhe Teri Aarzoo Thi,
    Ab Tu Khuda Bhi Ban Jaye To Main Sazda Na Karoon.

 

  • वो वक़्त गुजर गया जब मुझे तेरी आरज़ू थी,
    अब तू खुदा भी बन जाए तो मैं सज़दा न करूँ।

 

  • Nafrat Karne Wale Bhi Gazab Ka Pyar Karte Hain Mujhse,
    Jab Bhi Milte Hain Kahte Hain Ki Tujhe Chhodenge Nahin.

 

  • नफरत करने वाले भी गज़ब का प्यार करते हैं मुझसे,
    जब भी मिलते हैं कहते हैं कि तुझे छोड़ेंगे नहीं ।

 

  • Teri Nafraton Ko Pyaar Ki Khushbu Bana Deta,
    Mere Bas Mein Agar Hota Tujhe Urdu Sikha Deta.

 

  • तेरी नफरतों को प्यार की खुशबु बना देता,
    मेरे बस में अगर होता तुझे उर्दू सिखा देता।

 

  • Agar Itni Hi Nafrat Hai Hamse To,
    Dil Se Kuchh Aisee Dua Karo,
    Ki Aaj Hi Tumhari Dua Bhi Poori Ho Jaaye,
    Aur Hamari Zindagi Bhi.

 

  • अगर इतनी ही नफरत है हमसे तो,
    दिल से कुछ ऐसी दुआ करो,
    की आज ही तुम्हारी दुआ भी पूरी हो जाये,
    और हमारी ज़िन्दगी भी।

 

  • Kabhi Usne Bhi Hamen Mohabbat Ka Paigaam Likha Tha,
    Sab Kuchh Usne Apna Hamare Naam Likha Tha,
    Suna Hai Aaj Unko Hamare Jikr Se Bhi Nafarat Hai,
    Jisne Kabhi Apne Dil Par Hamara Naam Likha Tha.

 

  • कभी उसने भी हमें मोहब्बत का पैगाम लिखा था,
    सब कुछ उसने अपना हमारे नाम लिखा था,
    सुना है आज उनको हमारे जिक्र से भी नफ़रत है,
    जिसने कभी अपने दिल पर हमारा नाम लिखा था।

 

  • Usne Nafrat Se Jo Dekha Hai To Yaad Aaya,
    Kitne Rishte Uski Khatir Yun Hi Tod Aaya Hun,
    Kitne Dhundhle Hain Ye Chehre Jinhen Apnaya Hai,
    Kitni Ujli Thi Wo Aankhen Jinhen Chhod Aaya Hun.

 

  • उसने नफ़रत से जो देखा है तो याद आया,
    कितने रिश्ते उसकी ख़ातिर यूँ ही तोड़ आया हूँ,
    कितने धुंधले हैं ये चेहरे जिन्हें अपनाया है,
    कितनी उजली थी वो आँखें जिन्हें छोड़ आया हूँ।

 

  • Tum Nafrat Karo Ya Mohabbat,
    Dono Hamare Haq Mein Behtar Hain,
    Nafrat Karoge To Ham Tumhare Dimag Mein,
    Mohabbat Karoge To Dil Mein Bas Jayenge.

 

  • तुम नफरत करो या मोहब्बत,
    दोनों हमारे हक में बेहतर हैं,
    नफरत करोगे तो हम तुम्हारे दिमाग में,
    मोहब्बत करोगे तो दिल में बस जायेंगे।

 

  • Gujare Hain Ishq Mein Ham Is Mukaam Se
    Nafrat Si Ho Gai Hai Mohabbat Ke Naam Se
    Ham Wo Nahin Jo Mohabbat Mein Ro Kar Ke
    Zindagi Ko Gujaar De…
    Agar Parchhai Bhi Teri Najar Aa Jaye
    To Use Bhi Thokar Maar Den.

 

  • गुजरे हैं इश्क़ में हम इस मुकाम से
    नफरत सी हो गई है मोहब्बत के नाम से
    हम वो नहीं जो मोहब्बत में रो कर के
    जिंदगी को गुजार दे…
    अगर परछाई भी तेरी नजर आ जाए
    तो उसे भी ठोकर मार दें।

 

  • Khuda Salamat Rakhna Unhen,
    Jo Hamase Nafrat Karte Hain,
    Pyar Na Sahi Nafrat Hi Sahi,
    Kuchh To Hai Jo Wo Hamse Karte Hain.

 

  • खुदा सलामत रखना उन्हें,
    जो हमसे नफरत करते हैं,
    प्यार न सही नफरत ही सही,
    कुछ तो है जो वो हमसे करते हैं।

 

  • Tum Nafrat Ka Dharna Kayamat Tak Jari Rakho,
    Main Pyar Ka Isteefa Zindagi Bhar Nahin Doonga.

 

  • तुम नफरत का धरना कयामत तक जारी रखो,
    मैं प्यार का इस्तीफा जिंदगी भर नहीं दूंगा।

 

  • Nafraton Ke Jahan Mein Hamko Pyar Ki Bastiyan Basani Hain,
    Door Rahna Koi Kamaal Nahin, Pas Aao To Koi Baat Bane.

 

  • नफरतों के जहां में हमको प्यार की बस्तियां बसानी हैं,
    दूर रहना कोई कमाल नहीं, पास आओ तो कोई बात बने।

 

  • Mahobbat Aur Napharat Sab Mil Chuke Hain Mujhe,
    Main Ab Takareeban Mukammal Ho Chuka Hoon.

 

  • महोब्बत और नफरत सब मिल चुके हैं मुझे,
    मैं अब तकरीबन मुकम्मल हो चुका हूँ।

 

  • Mohabbat Karne Se Fursat Nahin Mili Dosto…
    Varna Ham Karke Batate Nafrat Kisko Kahte Hain.

 

  • मोहब्बत करने से फुरसत नहीं मिली दोस्तो…
    वरना हम करके बताते नफरत किसको कहते हैं।

 

  • Jab Nafrat Karte Karte Thak Jao,
    Tab Ek Mauka Pyar Ko Bhi Dena.

 

  • जब नफरत करते करते थक जाओ,
    तब एक मौका प्यार को भी देना।

 

  • Kuch Is Ada Se Nibhana Hai Kirdaar Mera Mujhko,
    Jinhen Muhabbat Na Ho Mujhse Wo Nafrat Bhi Na Kar Sake.

 

  • कुछ इस अदा से निभाना है किरदार मेरा मुझको,
    जिन्हें मुहब्बत ना हो मुझसे वो नफरत भी ना कर सके।

 

  • Nafrat Ho Jayegi Tujhe Apne Hi Kiradaar Se,
    Agar Main Tere Hi Andaj Mein Tujhse Baat Karun.

 

  • नफ़रत हो जायेगी तुझे अपने ही किरदार से,
    अगर मैं तेरे ही अंदाज में तुझसे बात करुं।

 

  • Dekh Kar Usko Tera Yun Palat Jaana,
    Nafrat Bata Rahi Hai Toone Ishq Bemisaal Kiya Tha.

 

  • देख कर उसको तेरा यूँ पलट जाना,
    नफरत बता रही है तूने इश्क बेमिसाल किया था।

 

  • Tujhe Pyar Bhi Teri Aukat Se Jyaada Kiya Tha,
    Ab Baat Nafrat Ki Hai To Nafrat Hi Sahi.

 

  • तुझे प्यार भी तेरी औकात से ज्यादा किया था,
    अब बात नफरत की है तो नफरत ही सही।

 

  • Hamen Barbaad Karna Hai To Hamse Pyar Karo,
    Nafarat Karoge To Khud Barbaad Ho Jaoge.

 

  • हमें बरबाद करना है तो हमसे प्यार करो,
    नफरत करोगे तो खुद बरबाद हो जाओगे।

 

  • Haan Mujhe Rasm-E-Mohabbat Ka Saleeqa Hi Nahin,
    Ja Kisi Aur Ka Hone Ki Ijaazat Hai Tujhe.

 

  • हाँ मुझे रस्म-ए-मोहब्बत का सलीक़ा ही नहीं,
    जा किसी और का होने की इजाज़त है तुझे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.