2 Line Shayari | Two Line Best Love, Emotional And Sad Status

2 Line Love Shayari for Love and Sad

2 Line Shayari: If you want to get the best 2 Line Shayari and share it with your friends then We are providing Latest Collection of Shayari like Best 2 Line Love Shayari, 2 Line Heart Touching Shayari, Two Line Broken Heart Emotional Shayari. I hope you liked this English & Hindi 2 Line Shayari collection. You will get all the Latest and updated collection of 2 Line Shayari in Hindi. Also Check our updated Love Shayari and Zindagi Shayari.

2 Line Shayari for Love and Best Friends

  • Jid Mein Aakar Unse Taalluk Tod Liya Hamne,
    Ab Sukoon Unko Nahin Aur Bekaraar Ham Bhi Hain.

 

  • जिद में आकर उनसे ताल्लुक तोड़ लिया हमने,
    अब सुकून उनको नहीं और बेकरार हम भी हैं।

 

  • Neend Churane Wale Poochhte Hain Sote Kyu Nahi,
    Itani Hi Fikr Hai To Phir Hamare Hote Kyu Nahi.

 

  • नींद चुराने वाले पूछते हैं सोते क्यों नही,
    इतनी ही फिक्र है तो फिर हमारे होते क्यों नही।

 

  • Gar Wafaon Mein Sadaqat Bhi Ho Aur Shiddat Bhi,
    Phir To Ehasaas Se Patthar Bhi Pighal Jaate Hain.

 

  • गर वफ़ाओं में सदाक़त भी हो और शिद्दत भी,
    फिर तो एहसास से पत्थर भी पिघल जाते हैं।

 

  • Kisi Ko Talashte Talashte Khud Ko Kho Dena,
    Aansa Hai Kya Aashiq Ho Jaana.

 

  • किसी को तलाशते तलाशते खुद को खो देना,
    आंसा है क्या आशिक हो जाना।

 

  • Sab Hoga Mukammal Kabool Banenge Laakh Jariye
    Hujoor Ek Dafaa Mohabbat To Kariye.

 

  • सब होगा मुकम्मल कबूल बनेंगे लाख जरिये
    हुजूर एक दफा मोहब्बत तो करिये।

 

  • Mar Jane Ki Khwaish Ko Main Kuchh Is Kadar Mara Karta Hoon,
    Dil Ke Jahar Ko Main Kaagaz Par Utara Karta Hoon.

 

  • मर जाने की ख्वाइश को मैं कुछ इस कदर मारा करता हूँ,
    दिल के जहर को मैं कागज पर उतरा करता हूँ।

 

  • Kad Badha Nahin Karte, Aidiyaan Uthane Se
    Oonchaiya To Milti Hain, Sar Jhukaane Se.

 

  • कद बढ़ा नहीं करते, ऐड़ियां उठाने से
    ऊंचाईया तो मिलती हैं, सर झुकाने से।

 

  • Do Shabd Tasalli Ke Nahi Milte Is Shahar Mein,
    Log Dil Mein Dimaag Liye Ghoomte Hain.

 

  • दो शब्द तसल्ली के नहीं मिलते इस शहर में,
    लोग दिल में भी दिमाग लिए घूमते हैं।

 

  • Har Najar Mein Mumkin Nahin Hai Be-Gunaah Rahna,
    Vada Ye Karein Ke Khud Ki Najar Mein Bedaag Rahein.

 

  • हर नजर में मुमकिन नहीं है बे-गुनाह रहना,
    वादा ये करें कि खुद की नजर में बेदाग रहें।

 

  • Khwahishon Ka Mohalla Bahut Bada Hota Hai,
    Behtar Hai Ham Jarooraton Ki Gali Mein Mud Jaen.

 

  • ख्वाहिशों का मोहल्ला बहुत बड़ा होता है,
    बेहतर है हम जरूरतों की गली में मुड़ जाएं।

 

  • Siyaasat Ko Lahoo Peene Ki Lat Hai,
    Varana Is Mulk Me Sab Khairiyat Hai.

 

  • सियासत को लहू पीने की लत है,
    वरना इस मुल्क मे सब खैरियत है।

 

  • Hajaar Javabon Se Achchhi Hai Khamoshi Meri,
    Na Jaane Kitne Sawalon Ki Aabroo Rakhti Hai.

 

  • हजार जवाबों से अच्छी है खामोशी मेरी,
    ना जाने कितने सवालों की आबरू रखती है।

 

  • Najron Mein Doston Ki Jo Itna Kharab Hai,
    Uska Qasoor Ye Hai Ke Wo Kaamyab Hai.

 

  • नजरों में दोस्तों की जो इतना खराब है,
    उसका कसूर ये है कि वो कामयाब है।

 

  • Main Ek Shaam Jo Roshan Diya Utha Laya,
    Tamam Shahar Kahin Se Hawa Utha Laya.

 

  • मैं एक शाम जो रोशन दिया उठा लाया,
    तमाम शहर कहीं से हवा उठा लाया।

 

  • Kachche-Rishte, Aur Adhoora-Apnaapan,
    Mere Hisse Mein Aai Hain Aisi Hi Saugaaten.

 

  • कच्चे-रिश्ते, और अधूरा-अपनापन,
    मेरे हिस्से में आयी हैं ऐसी ही सौग़ातें।

 

  • Be-Fizooli Ki Zindagi Ka Sil-Sila Khatm,
    Jis Tarah Ki Duniya Us Tarah Ke Ham.

 

  • बे-फिजूली की जिंदगी का सिल-सिला ख़त्म,
    जिस तरह की दुनिया उस तरह के हम।

 

  • Kirdaar Ki Kadr Hoti Hai Warna Kad Mein To,
    Saaya Bhi Insan Se Bada Hota Hai.

 

  • किरदार की कद्र होती है वरना कद में तो,
    साया भी इंसान से बड़ा होता है।

 

  • Khud Ke Liye Kabhi Kuchh Maanga Nahin,
    Auron Ke Liye Sar Jhukane Padte Hain.

 

  • खुद के लिए कभी कुछ माँगा नहीं,
    औरों के लिए सर झुकाने पड़ते हैं।

 

  • Achha Hun Ya Bura Hun Apne Liye Hun…
    Mai Khud Ko Nahi Dekhta Auro Ki Najar Se.

 

  • अच्छा हूँ या बुरा हूँ अपने लिए हूँ…
    मै खुद को नही देखता औरो की नजर से।

 

  • Bach Bach Ke Chalta Raha Kanto Se Umr Bhar,
    Kya Khabar Thi Ki Chot Phool Se Lag Jayegi.

 

  • बच बच के चलता रहा कांटो से उम्र भर,
    क्या खबर थी कि चोट फूल से लग जायेगी।

 

  • Tarakki Ki Fasal, Ham Bhi Kaat Lete,
    Thode Se Talave Agar Ham Bhi Chaat Lete.

 

  • तरक्की की फसल, हम भी ‘काट’ लेते,
    थोड़े से तलवे अगर ‘हम’ भी चाट लेते।

 

  • Ham Us Takdeer Ke Pasandida Khilauna Hain,
    Wo Roz Jodti Hai Mujhe Phir Se Todne Ke Liye.

 

  • हम उस तकदीर के सबसे पसंदीदा खिलौना हैं,
    वो रोज़ जोड़ती है मुझे फिर से तोड़ने के लिए।

 

  • Jin Jakhmo Se Khoon Nahi Nikalta Samajh Lena,
    Wo Zakhm Kisi Apne Ne Hi Diya Hai.

 

  • जिन जख्मो से खून नहीं निकलता समझ लेना
    वो ज़ख्म किसी अपने ने ही दिया है।

 

  • Muskurahten Kismat Mein Honi Chahiye,
    Tasveer Me To Har Koi Muskurata Hai.

 

  • मुस्कुराहटें किस्मत में होनी चाहिये,
    तस्वीर मे तो हर कोई मुस्कुराता है।

 

  • Gahari Saazishon Ka Daur Hai Yaro,
    Unke Girebaan Mein Jhaankte Rahiye.

 

  • गहरी साज़िशों का दौर है यारो,
    उनके गिरेबान में झाँकते रहिये।

 

  • Zindagi Ka Aaina Jab Bhi Uthaya Karo,
    Pahle Khud Dekho Phir Auron Ko Dikhaaya Karo.

 

  • ज़िन्दगी का आइना जब भी उठाया करो,
    पहले खुद देखो फिर औरों को दिखाया करो।

 

  • Chal Pade Hain Fikre Yaar Dhuen Mein Uda Ke
    Meri Neem Si Zindagi Shahad Kar De.

 

  • चल पड़े हैं फ़िकरे यार धुएं में उड़ा के
    मेरी नीम सी ज़िन्दगी शहद कर दे।

 

  • Itne Kahan Masharoof Ho Gaye Ho Tum,
    Aajkal Dil Dukhane Bhi Nahin Aate.

 

  • इतना कहाँ मशरूफ हो गए हो तुम,
    आजकल दिल दुखाने भी नहीं आते।

 

  • Meri Aawaaz Hi Parda Hai Mere Chehre Ka,
    Main Hoon Khamosh Jahan, Mujhko Wahan Se Sunie.

 

  • मेरी आवाज़ ही परदा है मेरे चेहरे का,
    मैं हूँ ख़ामोश जहाँ, मुझको वहाँ से सुनिए।

 

  • Mera Rab Jab Bhi Savalaat Karega Agar Qayaamat Me,
    To Ham Bhi Kah Denge Lut Gae Ham Sharafat Mein.

 

  • मेरा रब जब भी सवालात करेगा अगर क़यामत में,
    तो हम भी कह देंगे लुट गए हम शराफत में।

 

  • Bas Khaamosh Jala Deti Hai Is Dil Ko,
    Baaki To Sab Bate Achchhi Hain Teri Tasveer Mein.

 

  • बस ख़ामोशी जला देती है इस दिल को,
    बाकि तो सब बाते अच्छी हैं तेरी तस्वीर में।

 

  • Kaise Chaloon Tere Ehsaas Ke Bina Do Kadam Bhi Main,
    Ladkhadati Jidangi Ki Aakhari Baisakhi Ho Tum.

 

  • कैसे चलूँ तेरे एहसास के बिना दो कदम भी मैं,
    लड़खड़ाती जिदंगी की आखरी बैसाखी हो तुम।

 

  • Saathi To Mujhe Apne Sukh Ke Liye Chahiye
    Dukhon Ke Liye To Main Akela Kafi Hoon.

 

  • साथी तो मुझे अपने सुख के लिए चाहिए
    दुखों के लिए तो मैं अकेला काफी हूँ।

 

  • Teri Mohabbat Ko Kabhi Khel Nahi Samjha,
    Warna Khel To Itne Khele Hai Ki Kabhi Haare Nahi.

 

  • तेरी मोहब्बत को कभी खेल नही समझा,
    वरना खेल तो इतने खेले है कि कभी हारे नही।

 

  • Kuchh Alag Sa Hai Apni Mohabbat Ka Haal Hai,
    Teri Chuppi Aur Mera Sawaal .

 

  • कुछ अलग सा है अपनी मोहब्बत का हाल है,
    तेरी चुप्पी और मेरा सवाल।

 

  • Sab Ko Mohabbat Ke Gam Nahin Milte,
    Tootne Waale Dil Hote Hain Khaas.

 

  • सब को मोहब्बत के ग़म नहीं मिलते,
    टूटने वाले दिल होते हैं ख़ास।

 

  • Mohabbat Khoobasurat Hogi Kisi Aur Duniyaan Mein,
    Idhar To Ham Par Jo Guzari Hai Ham Hi Jaante Hain.

 

  • मोहब्बत ख़ूबसूरत होगी किसी और दुनियाँ में
    इधर तो हम पर जो गुज़री है हम ही जानते हैं

 

  • Teri Mohabbat Par Mera Haq To Nahi Magar Ai Sanam,
    Jee Chahta Hai Ki Aakhiri Saans Tak Tera Intezar Karu.

 

  • तेरी मोहब्बत पर मेरा हक़ तो नही मगर ऐ सनम,
    जी चाहता है क़ि आखिरी सांस तक तेरा इन्तजार करू।

 

  • Ab Kisi Aur Se Mohabbat Kar Loon Ai Sanam,
    To Shikayat Mat Karna Ye Buri Aadat Bhi Mujhe Tumse Hi Lagi Hai.

 

  • अब किसी और से मोहब्बत कर लूं ऐ सनम,
    तो शिकायत मत करना ये बुरी आदत भी मुझे तुमसे ही लगी है।

 

  • Aajkal Dekhabhal Kar Hote Hain Pyar Ke Saude,
    Wo Daur Aur The Jab Pyar Andha Hota Tha.

 

  • आजकल देखभाल कर होते हैं प्यार के सौदे,
    वो दौर और थे जब प्यार अन्धा होता था।

 

  • Usne Har Nasha Saamne Lakar Rakh Diya Aur Kaha,
    Sabse Buri Lat Kaun Si Hain, Maine Kaha Tere Pyar Ki.

 

  • उसने हर नशा सामने लाकर रख दिया और कहा,
    सबसे बुरी लत कौन सी हैं, मैने कहा तेरे प्यार की।

 

  • Kya Aisa Nahin Ho Sakta Ki Ham Pyar Mange,
    Aur Tum Gale Laga Ke Kaho Aur Kuchh??

 

  • क्या ऐसा नहीँ हो सकता की हम प्यार मांगे,
    और तुम गले लगा के कहो और कुछ??

 

  • Wajah Nafaraton Ki Talashi Jaati Hai,
    Mohabbat To Bevajah Hi Ho Jaati Hai.

 

  • वजह नफरतों की तलाशी जाती है,
    मोहब्बत तो बेवजह ही हो जाती है।

 

  • Chhodo Na Yaar, Kya Rakha Hai Sunne Sunane Mein
    Kisi Ne Kasar Nahin Chhodi Dil Dukhane Mein.

 

  • छोड़ो ना यार, क्या रखा है सुनने सुनाने में
    किसी ने कसर नहीं छोड़ी दिल दुखाने में।

 

  • Hamne Jo Gujare Khamoshi Mein Din,
    Logon Ne Kaise Kaise Fasane Bana Liye.

 

  • हमने जो गुजारे खामोशी में दिन,
    लोगों ने कैसे कैसे फसाने बना लिये।

 

  • Mere Irade Meri Taqdeer Badalne Ko Kaafi Hain,
    Meri Kismat Meri Lakeeron Ki Mohtaaz Nahin.

 

  • मेरे इरादे मेरी तक़दीर बदलने को काफी हैं,
    मेरी किस्मत मेरी लकीरों की मोहताज़ नहीं।

 

  • Apni Haar Par Itna Shakoon Tha Mujhe,
    Jab Usne Gale Lagaya Jeetne Ke Baad.

 

  • अपनी हार पर इतना शकून था मुझे,
    जब उसने गले लगाया जीतने के बाद।

 

  • Bikhar Kar Rah Gaya Wajood Mera,
    Mai To Samjha Tha, Ishq Sanwaar Dega Mujhe.

 

  • बिखर कर रह गया वजूद मेरा,
    मै तो समझा था, इश्क संवार देगा मुझे।

 

  • Suna Hai Ishq Se Teri Bahut Banti Hai,
    Ek Ehsaan Kar Us Se Qusoor Puchh Mera.

 

  • सुना है इश्क़ से तेरी बहुत बनती है,
    एक एहसान कर उस से क़ुसूर पुछ मेरा।

 

  • Laut Aati Hai Har Baar Ibadat Meri Khali,
    Na Jane Kis Oonchai Pe Mera Khuda Rahta Hai.

 

  • लौट आती है हर बार इबादत मेरी खाली,
    न जाने किस ऊँचाई पे मेरा ‘खुदा’ रहता है।

 

  • Hamara Katl Karne Ki Unki Saajish To Dekho,
    Gujre Jab Kareeb Se To Chehre Se Parda Hata Liya.

 

  • हमारा कत्ल करने की उनकी साजीश तो देखो,
    गुजरे जब करीब से तो चेहरे से पर्दा हटा लिया।

 

  • Khawahish Nahi Mujhe Mashhoor Hone Ki Ai Sanam,
    Aap Mujhe Pahchante Ho Bas Itna Hi Kaafi Hai.

 

  • खवाहिश नही मुझे मशहूर होने की ऐ सनम,
    आप मुझे पहचानते हो बस इतना ही काफी है।

 

  • Kamjor Pad Gaya Hai Mujhse Tumhara Taalluk,
    Ya Kaheen Aur Silsile Majboot Ho Gaye Hain.

 

  • कमज़ोर पड़ गया है मुझसे तुम्हारा ताल्लुक,
    या कहीं और सिलसिले मजबूत हो गए हैं।

 

  • Khud Ko Bikharne Mat Dena, Kabhi Kisi Haal Mein,
    Log Gire Hue Makan Ki, Eenten Tak Le Jate Hain.

 

  • खुद को बिखरने मत देना, कभी किसी हाल मे,
    लोग गिरे हुए माकान की, ईंटें तक ले जाते हैं।

 

  • Chal Pade Hain Fikare Yaar Dhuen Mein Uda Ke
    Meree Neem See Zindagee Shahad Kar De.

 

  • चल पड़े हैं फ़िकरे यार धुएं में उड़ा के
    मेरी नीम सी ज़िन्दगी शहद कर दे।

 

  • Hamne Roti Huyi Aankhon Ko Hasaya Hai Sada,
    Is Se Behtar Ibadat To Nahin Hogi Hamse.

 

  • हम ने रोती हुई आँखों को हँसाया है सदा,
    इस से बेहतर इबादत तो नहीं होगी हमसे।

 

  • Kaun Kaisa Hai Ye Hi Fikr Rahi Tamaam Umr,
    Ham Kaise Hain Ye Kabhi Bhool Kar Bhi Nahi Socha.

 

  • कौन कैसा है ये ही फ़िक्र रही तमाम उम्र,
    हम कैसे हैं ये कभी भूल कर भी नही सोचा।

 

  • Seekh Nahin Pa Raha Hun Meethe Jhooth Bolane Ka Hunar,
    Kadave Sach Se Hamse Na Jane Kitne Log Rooth Gaye.

 

  • सीख नहीं पा रहा हूँ मीठे झूठ बोलने का हुनर,
    कड़वे सच से हमसे न जाने कितने लोग रूठ गये।

 

  • Yahaan Sab Khamosh Hain Koi Aawaaz Nahin Karta,
    Sach Bolkar Koi, Kisi Ko Naraaz Nahin Karta.

 

  • यहाँ सब खामोश हैं कोई आवाज़ नहीं करता,
    सच बोलकर कोई, किसी को नाराज़ नहीं करता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *